45.5 C
Panipat
June 29, 2022
Voice Of Panipat
Big Breaking News Education Haryana Haryana News

KUK यूनिवर्सिटी का बड़ा फैसला, ऑफलाइन या ऑनलाइन दोनों तरह से छात्र दे सकेंगे परीक्षा

वायस ऑफ पानीपत (देवेंद्र शर्मा):- कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय यूजी और पीजी सेमेस्टर की परीक्षा ब्लेंडिड मोड में लेगा। यानी परीक्षार्थी आनलाइन व आफलाइन दोनों तरीकों से परीक्षा दे सकेगा। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सोमनाथ सचदेवा ने परीक्षा स्टेंडिंग कमेटी की सिफारिशों के आधार पर ब्लेंडिड मोड में परीक्षा लेने पर अपनी मुहूर लगा दी है। इसके साथ इसकी अधिसूचना मंगलवार को सभी विभागाध्यक्षों, प्राचार्यों व निदेशकों को ई-मेल से जारी कर दी है। कुलपति प्रो. सोमनाथ सचदेवा ने कहा कि छात्र हित पहली प्राथमिकता है। प्रदेश में वर्तमान स्थिति व परीक्षा संबंधित समस्याओं का संज्ञान लेते हुए कुवि प्रशासन ने इस बार पुनः स्नातक, स्नातकोत्तर की सेमेस्टर परीक्षाएं 13 जुलाई व बीएड अंतिम वर्ष की परीक्षाएं 27 जुलाई से ब्लेंडिड मोड में करने का निर्णय लिया है। इसके सफल संचालन के लि केयू प्रशासन ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं।

गुगल फार्म का लिंक किया जाएगा जारी

परीक्षा नियंत्रक डा. हुकम सिंह ने बताया कि इन सभी परीक्षाओं की डेटशीट कुवि की वेबसाइट पर पहले से ही उपलब्ध हैं और विद्यार्थियों की समस्याओं को देखते हुए इस बार भी अपने पेपर की उत्तरपुस्तिका अपलोड करने के लिए गूगल फार्म का लिंक जारी किया जाएगा। ताकि उत्तर-पुस्तिका भेजने के लिए ईमेल बाउंस व ईमेल फेल जैसी किसी भी तकनीकी समस्या का सामना न करना पड़ें। विश्वविद्यालय के विभागों व संबंधित कालेजों के सभी परीक्षार्थियों को यूजी-पीजी की सेमेस्टर परीक्षाओं के लिए गूगल फार्म का लिंक संबंधित विभाग व संस्थान की ओर से भेजा जाएगा और गूगल फार्म के जरिये ही विद्यार्थी अपनी उत्तरपुस्तिका समय रहते संबंधित विभाग, संस्थान व कालेज में भेज सकेंगे। इसके लिए बाकायदा संबंधित अधिकारियों व कर्मचारियों को गूगल फार्म का लिंक तैयार कर सभी परीक्षार्थियों के पास भेजना होगा।

पूरा पेपर करना होगा हल

परीक्षार्थियों को इस बार 100 फीसद अंकों का पेपर हल करना होगा। जिसके लिए चार घंटे का समय दिया जाएगा। पेपर करने के लिए विद्यार्थियों को ए-फाेर साइज के अधिकतम 36 पेजों का प्रयोग करना होगा और प्रश्न पत्र डाउनलोड कर परीक्षा संबंधित विवरण व रोल नंबर पेज पर लिखना होगा। इसके अलावा कोई भी परीक्षार्थी अपना मोबाइल नंबर व अन्य कोई भी सूचना अपनी उत्तरपुस्तिका पर नहीं लिखेगा। इन आदेशों की उल्लंघना करने पर संबंधित विद्यार्थी के विरुद्ध आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

वैब कैम और मोबाइल कैमरे के सामने रहना होगा

ब्लेंडिड मोड के तहत होने वाली इन परीक्षाओं के लिए जारी की गई गाइडलाइन में विद्यार्थियों को वैब कैम और मोबाइल कैमरे के सामने उपस्थित होने के निर्देश हैं। डा. हुकम सिंह ने बताया कि प्रातःकालीन व सांयकालीन सत्र में होने वाली इन स्नातक व स्नातकोत्तर की परीक्षाओं में सुबह सत्र वाला पेपर 9:15 बजे और सायं सत्र के लिए 1:15 बजे ई-मेल के माध्यम से संबंधित विभाग, संस्थान व कालेज में भेजे जाएंगे। इसके बाद वे 9:30 बजे और दोपहर के सत्र में 1:30 बजे तक प्रश्न-पत्र ईमेल, वाट्सएप व अन्य किसी इलेक्ट्रानिक एप के माध्यम से परीक्षार्थी के पास भेजेंगे। विश्वविद्यालय ने आवश्यकता पड़ने पर स्पेशल आब्जर्वर नियुक्त किए जा सकते हैं। जो आनलाइन विद्यार्थियों पर परीक्षा के दौरान नजर रखेंगे।

परीक्षा मोड के लिए पूर्व विद्यार्थियों का रजिस्ट्रेशन जरूरी

डा. हुकम सिंह ने बताया कि विश्वविद्यालय की जारी अधिसूचना के अनुसार विद्यार्थी आनलाइन या आफलाइन किसी भी माध्यम से परीक्षा दे सकता है। इसके लिए विभागाध्यक्षों, प्राचार्यों व निदेशकों को परीक्षार्थियों से 10 जुलाई तक आप्शन लेनी होगी कि वे परीक्षा किस माध्यम से देना चाहते हैं। दूर-दराज व अन्य प्रदेशों में रहने वाले पूर्व विद्यार्थी को परीक्षा देने के लिए स्वयं को विभाग, संस्थान व महाविद्यालय में आनलाईन व आफलाइन मोड में रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा। इसके लिए उसके परीक्षा प्रवेश पत्र पर संबंधित कालेज का नाम दर्शाया गया होगा। निर्धारित महाविद्यालय व संस्थान में संपर्क कर अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। जिसमें उसका नाम, कक्षा, रोल नंबर, पेपरों का विवरण, मोबाइल नंबर, ई-मेल की जानकारी देनी होगी। सफल रजिस्ट्रेशन होने पर परीक्षार्थी को समय रहते प्रश्न पत्र सुबह व दोपहर सत्र वाले परीक्षा वाले दिन उपलब्ध हो सकेंगे। पूर्व की भांति इस बार भी यदि कोई विद्यार्थी आफलाइन माध्यम से परीक्षा देना चाहता है तो उस स्थिति में विद्यार्थी को संबंधित कालेज प्रश्न-पत्र व उत्तर-पुस्तिका उपलब्ध करवाएगा और परीक्षा संपन्न करवाने की जिम्मेदारी संबंधित विभाग, कालेज व संस्थान के अध्यक्ष, प्राचार्य व निदेशक की होगी। इसके अलावा प्रेक्टिकल, प्रोजेक्ट रिपोर्ट, ट्रेनिंग की परीक्षा विभाग, महाविद्यालय व संस्थान स्तर पर ही आनलाइन मोड से ली जाएगी।

TEAM VOICE OF PANIPAT

Related posts

PANIPAT में वैध ने युवक के पैर की तोड़ी हड्डी, केस दर्ज, पढिए क्या है पूरा मामला

Voice of Panipat

पढ़िए वो गुमनाम चिट्ठी, जिसने खत्म किया राम रहीम का साम्राज्य, चिट्ठी मे था बड़ा खुलासा

Voice of Panipat

जिले में हुई राहगिरी का सच आया सामने, हुआ इतना बड़ा घोटाला

Voice of Panipat