33 C
Panipat
May 23, 2022
Voice Of Panipat
Big Breaking News Haryana Health Health Tips Lifestyle

बासी रोटी खाने के गुण देखकर हो जाएंगे हैरान..

वॉयस ऑफ पानीपत(सोनम गुप्ता)- आप सभी ने बासी रोटी या खमीरी रोटी का नाम तो कभी न कभी सुना ही होगा। लेकिन क्या आप इसके गुण से वाकिफ हैं। एक बार इसके गुण जान जाएंगे, तो हर सुबह बासी रोटी ही खाएंगे।  जमशेदपुर की आयुर्वेद व प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ सीमा पांडेय बताती हैं कि उत्तर पूर्व में लोग ‘खमीरी रोटी’ बनाते हैं, जहां गेहूं को किण्वन के लिए रखा जाता है और उसकी रोटियां बाद में बनाई जाती हैं, जो स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छी होती हैं। आपके घर में बनने वाली गेहूं के आटे की रोटी को सफेद सूती कपङे में लपेट कर रोटी के खास डब्बे में 12 से 15 घंटे रखा जाए तो यह भी खमीरी रोटी ही बन जाती है। प्रचलित भाषा में इसे बासी रोटी कहते हैं। अगर आपको डायबिटीज है, तो सुबह के समय बासी रोटी को दूध के साथ खाना फायदेमंद हो सकता है। इससे आपके शरीर में शर्करा का स्तर संतुलित रहेगा। अगर आपको ब्लडप्रेशर की समस्या है, तो बासी रोटी खाना लाभकारी होगा।

बता दें कि ठंडे दूध के साथ बासी रोटी खाने से बढ़ा हुआ रक्तचाप संतुलित रहता है। पेट की समस्याओं और एसिडिटी से राहत के लिए भी सुबह के वक्त दूध के साथ बासी रोटी खाना काफी लाभदायक होता है। बासी रोटी सेहत बनाने वालों के लिए भी फायदेमंद है। कई फिटनेस सेंटर और जिम में एक्सरसाइज के साथ सुबह बासी रोटी खाने की सलाह दी जाती है। बासी रोटी को दूध के साथ खाने से पेट की बीमारियों से भी राहत मिलती है। इससे एसिडिटी, कब्ज जैसी समस्याएं दूर होती है।

वहीं एक नए अध्ययन में बताया गया है कि बासी रोटी पेट के कैंसर को दूर करने में कैसे मदद कर सकती है। आस्ट्रेलिया स्थित आरएमआइटी में इस पर शोध किया गया है। इसमें पाया गया है कि बासी या खमीरी रोटी में रेसिस्टेंट स्टार्च बनता है। ऐसा नाम क्योंकि शरीर के भीतर रहने वाले डाइजेस्टिच एंजाइम इसका पाचन नहीं कर पाते। मगर हमारे पेट में रहने वाले कुछ लाभदायी बैक्टेरिया को इसका सेवन बहुत पसंद है। सेवन करके उससे वे ब्यूटरेट तथा प्रोपिनेट बनाते हैं, जो बड़ी आंत के लिये बहुत लाभदायी है। शोधकर्ता विलियम सुलिवन एक शोध पत्र में कहते हैं कि वे मोटापे से बचाव और आंत हार्मोन को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। एक अन्य शोधपत्र में वे कहते हैं कि वे बृहदान्त्र के अस्तर में स्वस्थ कोशिका वृद्धि को बनाए रखने में मदद करते हैं, और यहां तक ​​कि सेलुलर श्रृंखला प्रतिक्रिया की शुरुआत को रोकते या धीमा करते हैं।

TEAM VOICE OF PANIPAT

Related posts

अब हरियाणा में खुलेंगे पहली से तीसरी कक्षा के स्कूल, पढिए पूरी जानकारी

Voice of Panipat

फरवरी के अंतिम दिन हुई इस बरसात से बढ़ेंगी किसानों की मुश्किलें

Voice of Panipat

जमीन विवाद में मां के हत्यारे के किया काबू, कबूली हत्या.

Voice of Panipat