35.6 C
Panipat
April 16, 2024
Voice Of Panipat
Big Breaking NewsHaryana

350 किसानों पर हत्या के प्रयास का मामला दर्ज, सीएम के कार्यक्रम में हुआ था बवाल

वायस ऑफ पानीपत (देवेंद्र शर्मा):- चौधरी देवीलाल संजीवनी कोविड अस्पताल के बाहर शरारती तत्वों द्वारा पुलिसकर्मियों पर पथराव करने के मामले में 350 किसानों और शरारती तत्वों पर केस दर्ज किया गया है। पुलिस ने धारा 109, 147, 248, 149, 186, 188, 283, 353, 427, 307 के तहत केस दर्ज किया है। केस अर्बन एस्टेट थाना प्रभारी की शिकायत पर अर्बन एस्टेट थाना में दर्ज किया गया है। हमले में पांच महिला पुलिसकर्मियों सहित 20 पुलिसकर्मी घायल हुए है। शरारती तत्वों के साथ मुख्यमंत्री के हिसार से जाने के 45 मिनट बाद झड़प हुई थी। साउथ बाईपास पर आंदोलनरत किसान नहर पुल पर लगे नाके को तोड़कर शहर के अंदर की तरफ आ रहे थे। उस वक्त डीआइजी ने लाउडस्पीकर द्वारा बार-बार अनाउसमेंट कर किसानों को सूचना थी कि मुख्यमंत्री हिसार से जा चुके है। अब विरोध-प्रदर्शन का कोई औचित्य नहीं है।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि उस दौरान वरिष्ठ किसान नेताओं ने आंदोलन में सम्मिलित शरारती तत्वों को उस रास्ते पर जाने से रोकने का प्रयास किया। परंतु आंदोलनकारियों ने किसी की नहीं सुनी और उन्होंने जिदल पुल के पास लगाए नाके को तहस-नहस किया। उन्होंने आगे बढ़ते हुए डीएसपी और अन्य पुलिसकर्मियों के साथ धक्का-मुक्की की और संजीवनी अस्पताल के प्रवेश द्वार तक पहुंचे। वहां जब आंदोलनरत शरारती तत्वों को एएसपी और पुलिस उपअधीक्षक ने अन्य पुलिस बल सहित रोकने का प्रयास किया तो शरारती तत्वों ने अधिकारियों व पुलिस कर्मियों पर कई बार गाड़ियों और ट्रैक्टर से टक्कर मार घायल करने का प्रयास किया। जब उनको रोकने का प्रयास किया गया तो आंदोलनरत किसानों में सम्मिलित शरारती तत्वों ने वहां पर उपस्थित अधिकारियों व पुलिस कर्मचारियों पर भारी पथराव कर दिया।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि कानून व्यवस्था बनाए रखने और इन शरारती तत्वों को अस्पताल मे घुसने से रोकने के लिए मजिस्ट्रेट के आदेश पर प्रथम आंसू गैस का प्रयोग किया और उसके बाद हल्का बल प्रयोग किया। यह तथ्य निराधार है कि किसान नेताओं को पुलिस ने बातचीत के लिए बुलाया और उन पर लाठीचार्ज किया।

आंदोलनरत किसान नेताओं द्वारा अधिकारियों से शाम को सात बजे के बाद बात हुई। जबकि यह घटना दोपहर 12.30 बजे की है। इस घटना से संबंधित सभी प्रविष्ठियां भी कंप्यूटर में दर्ज की जा रही थी और एफआइआर से संबंधित सभी प्रविष्ठियां दर्ज की जा चुकी थी। बैठक के दौरान आइजी द्वारा इस प्रकरण बारे एफआइआर दर्ज नहीं होगी, ऐसा कोई आश्वासन नहीं दिया था।

TEAM VOICE OF PANIPAT

Related posts

कोरोना वायरस के चलते सरकार ने लिया फैसला, सभी सरकारी विभागों के लिए जारी किया निर्देश

Voice of Panipat

17 साल के लड़के ने महिला से किया रेप, सबूत मिटाने के लिये जला दिया महिला का प्राइवेट पार्ट, ऐसे हुआ खुलासा

Voice of Panipat

विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद बढ़ेंगे पेट्रोल-डीजल के दाम ? पढ़िए

Voice of Panipat