20.4 C
Panipat
February 29, 2024
Voice Of Panipat
HealthHealth Tips

देश में बायोलॉजिकल ई की वैक्सीन भी मिलने लगेगी

वायस ऑफ पानीपत :-   देश में वैक्सीन की डिमांड को पूरा करने के लिए भारत सरकार ने हैदराबाद की एक प्रतिष्ठित कंपनी बायोलॉजिकल-ई (Biological E) को 1500 करोड़ रुपये एडवांस में दे दिया है. Biological E का टीका अगस्त से लोगों को मिलना शुरू हो जाएगा. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी है. मंत्रालय के मुताबिक सरकार ने बॉयोलॉजिकल-ई द्वारा तैयार किए जा रहे इस टीके की 30 करोड़ खुराक खरीदने का फैसला कर लिया है. कंपनी अगस्त से दिसंबर के बीच टीके की 30 करोड़ खुराकों की आपूर्ति करेगी. इस प्रकार अगस्त से प्रतिमाह छह करोड़ अतिरिक्त टीके लोगों को उपलब्ध होंगे. 

बायलॉजिकल ई कंपनी की साख बहुत अच्छी है. कंपनी पहले से ही जॉनसन एंड जॉनसन सहित चार वैक्सीन के साथ काम कर रही है. इन चारों वैक्सीन पर की गई रिसर्च इसकी अपनी वैक्सीन पर काम आएगी. इसलिए फोर्ब्स पत्रिका ने इसे भारत का डार्क हॉर्स (अप्रत्याशित विजेता) बताया है. पत्रिका ने दिसंबर 2020 के अंक में लिखा था वैक्सीन निर्माण के क्षेत्र में कंपनी ने अपने अथक प्रय़ास से बेहतरीन काम किया है.

एक जून की कंपनी ने अपने वक्तव्य में कहा था कि बायोलॉजिक ई कनाडा की एक कंपनी Providence Therapeutics Holdings के साथ साझेदारी की है जो भारत में mRNA vaccines निर्माण के लिए तकनीकी हस्तांतरित करेगी. कंपनी का लक्ष्य एक अरब वैक्सीन निर्माण का है. कंपनी 2022 तक 60 करोड़ वैक्सीन तैयार कर लेगी. 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरूवार को बयान जारी कर बताया कि बॉयोलॉजिकल-ई की कोविड-19 वैक्सीन इस समय तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल से गुजर रही है. पहले और दूसरे क्लीनिकल ट्रायल में बेहतर नतीजे मिले थे. वैक्सीन को बॉयोलॉजिकल-ई ने  mRNA तकनीकी पर विकसित किया है, जो आरबीडी प्रोटीन सब-यूनिट वैक्सीन है. संभावना है कि जून-जुलाई के दौरान इसके परीक्षण पूरे हो जाएंगे और सरकारी नियामक की मंजूरी भी मिल जाएगी. इसके बाद अगस्त से इसका टीकाकरण में इस्तेमाल शुरू हो जाएगा.

भारत सरकार शुरुआत से इस कंपनी के साथ संपर्क में थी और कंपनी को टीका बनाने के लिए हरसंभव मदद भी दी थी. मंत्रालय ने कहा कि सरकार इस टीके को प्री क्लीनिकल चरण से लेकर तीसरे चरण तक के अध्ययन तक समर्थन देती आ रही है. जैव प्रौद्यौगिकी विभाग ने न सिर्फ 100 करोड़ रुपये के अनुदान के रूप में वित्तीय सहायता दी है, बल्कि विभाग बायोलॉजिकल-ई के साथ तकनीकी साझेदारी भी कर रहा है. 

TEAM VOICE OF PANIPAT

Related posts

वायु प्रदूषण से है परेशान, तो घर में लगाएं ये 5 तरह के पौधे

Voice of Panipat

इस मौसम में बढ़ सकता है, UTI का खतरा

Voice of Panipat

जानिए अजवाइन की पत्तियों के फायदे के बारे में

Voice of Panipat